Συνταγή για தென்றல்: மறக்க முடியா மனிதர் (…தொடர்ச்சி)

Συνταγη για தென்றல்: மறக்க முடியா மனிதர் (…தொடர்ச்சி)


10:24 PM

Vavanna (உமர்தம்பிஅண்ணன்)
,

2 Comments



இன்றைய நாளில் பெண்கள் மேல் நிலைப் பள்ளியாக விளங்கி வரும் காதிர் முகைதீன் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளி உருவான விதம் பற்றித் தெரிந்து கொண்டால்தான் தாளாளர் அவர்களின் தொலை நோக்குச் சிந்தனை எத்தகையது என்பதை நாம் விளங்கிக் கொள்ள முடியும். அதிராம்பட்டினத்து மக்களின் குடி நீர்த் தேவையைப் பூர்த்தி செய்யும் நோக்கில் மேலத் தெருவில் அமைந்துள்ள குடி நீர்த் தொட்டியைத் திறந்து வைப்பதற்காக அப்போதைய தமிழக முதல்வர் M.G.R. அவர்கள் அதிரைக்கு வருகை தந்தார். அப்போது அவரிடம் ‘பெண்களுக்காகத் தனியாக உயர் நிலைப் பள்ளி வேண்டும்’ என்று கோரிக்கை விடுத்து அதிரை மக்களால் விண்ணப்பம் அளிக்கப்பட்டது. விழா மேடையிலேயே அவ் விண்ணப்பத்தைப் பரிசீலனை செய்த முதலமைச்சர், அப்போது மேடையில் வீற்றிருந்த தமிழக அமைச்சர் மாண்புமிகு S.D. சோம சுந்தரம் அவர்களிடம் விண்ணப்பத்தைக் கொடுத்து, அதிரைக்குப் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளி அமைவதற்கு உடன் நடவடிக்கை மேற்கொள்ளுமாறு உத்தரவிட்டார்! அமைச்சர் S.D. சோம சுந்தரம் அவர்களின் முயற்சியால் அரசுப் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளி உருவாவதற்கான பணிகள் தீவிரமாக நடை பெற்று வந்தன!

அத் தருணத்தில் காதிர் முகைதீன் மேல் நிலைப் பள்ளியில் கூட்டுக் கல்வி (CO-EDUCATION) முறையில் படித்துக் கொண்டிருந்த மாணவிகளின் பெற்றோர்கள் தாளாளர் அவர்களை அணுகி, ”பலரும் கூடுகின்ற இடமான மெயின் ரோட்டில் அமையவிருக்கும் அரசுப் பெண்கள் பள்ளிக்கு எங்கள் பெண் பிள்ளைகளை அனுப்புவதற்கு நாங்கள் விரும்பவில்லை. ஊரின் மையப்பகுதி ஒன்றில் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளி வருவதற்கு ஏற்பாடு செய்யுமாறு வேண்டிக் கொண்டனர். அவர்களின் வேண்டு கோளை ஏற்றுக் கொண்ட அறக் கட்டளையின் செயலாளர் ஹாஜி S.M.S. அவர்கள் துரிதமாகச் செயல்பட்டார், விடிந்தால் வெள்ளிக்கிழமை. இரவு 9 மணியளவில் வீட்டிலிருந்த எனக்கு கல்லூரி அலுவலக ஊழியர் ஜனாப் S.M.சுல்தான் அவர்கள் மூலம் அழைப்பு விடுக்கப்பட்டது.

அறக் கட்டளை அலுவலகம் இயங்கி வந்த சேர்மன் வாடிக்கு நான் விரைந்து சென்றேன். அபோது அங்கே தாளாளர் அவர்களுடன் ஜனாப் A.S.M.ரஹ்மத்துல்லா ஹாஜியார், ஹாஜி ஜனாப் மன்னார் M.K. அப்துல் காதர், ஹாஜி ஜனாப் M.A.M. பாட்சா மரைக்காயர் உட்பட அறக்கட்டளை உறுப்பினர்கள் சிலர் இருந்தனர். அங்கு சென்ற என்னிடம் தாளாளர் அவர்கள் சொன்ன செய்தி இதுதான்: “நாளை வெள்ளிக்கிழமை ஜும்ஆ தொழுகை முடிந்தவுடன், நம் அறக்கட்டளை சார்பில் சலாஹிய்யா மதரசா நடைபெற்று வரும் கட்டிடத்தின் ஒரு பகுதியில் பெண்கள் உயர் பள்ளி துவக்கவும், அப்பள்ளியின் தலைமையாசிரியராக உன்னை நியமனம் செய்யவும் தீர்மானித்துள்ளோம். நாளை ஜும்ஆவுக்குப் பின் அட்மிஷன் செய்ய ஏதுவாக 5- ஆம் வகுப்பு தேர்ச்சி பெற்று, படிப்பைத் தொடர முடியாமல் உள்ளவர்களில் குறைந்தது 10 மாணவிகளின் ரிகார்டு ஷீட்டுகளையும பெற்று, அப்பொழுதே அட்மிஷன் செய்யவேண்டும்; மறுநாள் நம் மேல் நிலைப் பள்ளியிலிருந்து 6 ஆம் வகுப்பு முதல் 10- ஆம் வகுப்பு வரை படித்துக் கொண்டிருக்கும் மாணவிகளை அங்கிருந்து பிரித்து பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளிக்கு இடம் மாற்றவேண்டும். பெண்கள் பள்ளிக்குப் புதிய ஆசிரியைகளை நியமனம் செய்யும் வரை, ஆண்கள் பள்ளியில் பணியாற்றிக் கொண்டிருக்கும் பெண் ஆசிரியைகளைத் தற்காலிகமாகப் பெண்கள் பள்ளியில் பணியாற்றச் செய்யவேண்டும்!” போன்ற உத்தரவுகளைத் தாளாளர் அவர்கள் பிறப்பித்தார்கள்.

தாளாளரின் உத்தரவுக்கு இணங்க அனைத்தும் துரிதமாக நடந்தேறின! 04-06–1986 –ஆம் நாள் காதிர் முகைதீன் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளி நிறுவப்பட்டது! நான் தலைமையாசிரியராகவும், ஆண்கள் மேல் நிலைப் பள்ளியில் பணியாற்றிக் கொண்டிருந்த ஆசிரியைகளான திருமதி H.நூர்ஜஹான், திருமதி R.வடிவழகி, திருமதி M.மேகலா ஆகியோர் ஆசிரியைகளாகவும் பணியாற்றத் துவங்கினோம். சில மாதங்களில் பெண்கள் பள்ளிக்கெனத் தலைமையாசிரியை மற்றும் தேவையான ஆசிரியைகள் நியமனம் செய்யப்பட்டார்கள். நாங்கள் எங்கள் பள்ளிக்குத் திரும்பினோம். அரசுப் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளிக்குப் போட்டியாக நிறுவப்பட்ட பள்ளி எனக் கருதிய தமிழ் நாடு அரசு, காதிர் முகைதீன் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளிககு அங்கீகாரம் வழங்கவும், தேவையான ஆசிரியைப் பணியிடங்களை வழங்கவும் தயக்கம் காட்டியது. தாளாளர் அவர்கள் தனக்கே உரிய பாணியில் நீதி மன்றத்தில் வழக்குத் தொடந்தார்கள். காதிர் முகைதீன் உயர் நிலைப் பள்ளிக்கு அங்கீகாரம் வழங்கவும், தேவையான ஆசிரியர் பணியிடங்கள் வழங்கவும் சென்னை உயர் நீதிமன்றம் அரசுக்கு உத்தரவிட்டுத் தீர்ப்பளித்தது. கல்வித் தந்தை ஹாஜி அவர்களின் தொலை நோக்குச் சிந்தனையோடு, ஏறத்தாழ 120 மாணவிகளோடு துவக்கப்பட்ட காதிர் முகைதீன் பெண்கள் உயர் நிலைப் பள்ளி, மேல் நிலைப் பள்ளியாக, இன்று உயர்த்தப்பட்டு, 1200- க்கும் அதிகமான மாணவிகள் படிக்கும் வகையில் சிறப்பாகச் செயல்பட்டு வருகிறது.

அரபி மதரசா, ஆண்கள் மேல் நிலைப் பள்ளி, கல்லூரி, பெண்கள் மேல் நிலைப் பள்ளி, என வரிசையாகத் துவக்கப்பட்டு அவற்றை நிர்வகித்து வந்த போதிலும், தாளாளரின் கல்வித் தாகம் மட்டும் தணியவில்லை. சிறு குழந்தைகளின் தொடக்கக் கல்வியின் அவசியத்தை அறிந்து ‘சாதுலியா மழலையர் பள்ளி’யையும், தொழிற் கல்வியின் முக்கியத்துவத்தை முழுமையாக உணர்ந்து, சாதுலியா தொழிற் கல்வி நிலையத்தையும் தொடங்கி, அதிரையின் எல்லாப் பருவத்தினருக்கும் அனைத்து வகைக் கல்வியும் கிடைத்திட வழி செய்தார், நமது கல்வித் தந்தை அவர்கள்!

எனது சொந்த வாழ்க்கையில் என்னுடைய முன்னேற்றத்திற்குத் தாளாளர் அவர்களின் பங்களிப்பைப் பற்றி இங்கு குறிப்பிட மறந்தேனென்றால், நன்றி கொன்றவனாகிவிடுவேன். கல்விக் கட்டணம் செலுத்தி மட்டுமே படிக்க முடியும் என்ற காலக் கட்டத்தில் பள்ளியிலும் கல்லூரியிலும் அறக் கட்டளையின் கட்டணச் சலுகையில் படித்து முடித்ததையும், B,sc. பட்டத் தேர்வில் தேர்ச்சி பெற்றதும் பள்ளியில் கணிதப் பட்டதாரி ஆசிரியராகப் பணி செய்திட வாய்ப்புத் தந்ததையும், உயர் நிலைப் பள்ளி, மேல் நிலைப் பள்ளியாக உயர்த்தப் பட்டபோது, கணித முதுகலை ஆசிரியராகப் பணியாற்றிட வாய்ப்பு வழங்கியதையும், முதுகலைப் பட்டங்களோடு என்னினும் மூத்த ஆசிரியர்கள் பலர் இருக்க, அத் தருணத்தில் முது கலைப் பட்டம் பெற்றிராத என்னை ஆண்கள் மேல் நிலைப் பள்ளியின் தலைமையாசிரியராக நியமித்ததையும் உயிர் உள்ள வரை என்னால் மறக்க முடியாது.

02–10–1986 வியாழக்கிழமை, அதிரை நகர வரலாற்றிலும், கல்வி நிறுவனங்களின்வ வரலாற்றிலும் ஈடு செய்ய முடியா ஒரு பேரிழப்பை ஏற்படுத்திய கண்ணீரில் மூழ்கடித்த நாளாகும். ஆம்! அந்த நாள் தான் மறக்க முடியா மனிதர் மறைந்த நாள்! இறை நாட்டப்படி நேர்ந்த இறப்பால் ஹாஜி S.M.S. ஷேக் ஜலாலுதீன் மரைக்காயர் அவர்கள் விட்டுச் சென்ற வெற்றிடத்தை நிரப்புவது மிகக் கடினம் என்ற போதிலும் அன்னாரது மூத்த புதல்வர் ஹாஜி ஜனாப் S.முகம்மது முகைதீன் அவர்களும் அவரைத் தொடர்ந்து குடும்ப உறுப்பினர் ஹாஜி ஜனாப் A.M. சம்சுதீன் அவர்களும் அந்த வெற்றிடத்தை நிறைவு செய்தார்கள். தற்போது ஹாஜி S.M.S. அவர்களின் இரண்டாவது புதல்வர் ஜனாப் Dr. S.முகம்மது அஸ்லம் அவர்கள் காதிர் முகைதீன் கல்வி நிறுவனங்களின் தாளாளராக மிகச் சிறப்பாகச் செயல் பட்டு வருவது பாராட்டுக்குரியது. உலகம் உள்ள வரை கல்வி இருக்கும். கல்வி உள்ள வரை கல்வித் தந்தை ஹாஜி S.M.S. ஷேக் ஜலாலுதீன் மரைக்காயர் அவர்களின் புகழ் இருக்கும் என்பது உறுதி.

ஹாஜி S.K.M. ஹாஜா முகைதீன், M.A.,B.Sc., B.T.,

தலைமை ஆசிரியர் (ஓய்வு)

காதிர் முகைதீன் ஆண்கள் மேல் நிலைப்பள்ளி

அதிராம்பட்டினம்

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε தென்றல்: மறக்க முடியா மனிதர் (…தொடர்ச்சி) ? Καλή όρεξη

Συνταγή για வா.. வரையும் சரித்திரச் சித்திரம் – பகுதி – 4

Συνταγη για வா.. வரையும் சரித்திரச் சித்திரம் – பகுதி – 4

உமர் தன் நண்பர் அன்சாரியின் வழிகாட்டலில் பம்பாய் வந்து நேர்முகத் தேர்வில் தேறி, விசா பெற்றார். அவருக்கு விசா வழங்கியவர் ஒரு சிந்தி; பகுதி 3-ல் சொல்லப்பட்டவர்தான். பாடியா பிரிவைச் சேர்ந்தவர். துபையில் முதலில் குடியேறிய இந்தியர்களுள் இவர்களும் குஜராத்திகளும் சேருவர். துபை வளர்வதற்கு இவர்களும் காரணமாவர் என்று கூறக் கேட்டதுண்டு. பாடியாவுக்கு தேரா துபையிலும் கராமாவிலும் தொழில் கூடங்கள் இருந்தன. இது தவிர உதிரி பாகங்கள் கடையும் இருந்தது. இவரிடம் பம்பாய்க்காரர்கள், பாகிஸ்தானியர், மலையாளிகள், தமிழர்கள் என பல பிரிவினர் பணி புரிந்திருக்கின்றனர். உமர்தம்பி கராமா மின்னணு சாதனங்கள் செப்பனிடும் தொழிற் கூடத்தின் பொறுப்பாளராகப் பணி ஏற்றார்.
சத்வாவில் பணிபுரிந்த நான் பணிமுடித்து டாக்சியில் வந்து கராமாவில் இறங்கிவிடுவேன். உமர்தம்பி பணி முடித்த பிறகு இருவரும் மீண்டும் டாக்சியில் புறப்பட்டு பர்துபை வருவோம் அங்கிருந்து அப்ரா (படகு) மூலமாக தேரா வருவோம். இது கொஞ்ச நாட்கள் நீடித்தது.
உமர் பணி புரிந்த தொழிற்கூடத்தில் எல்லா வகையான மின்னணு சாதனங்களையும் செப்பனிடுவதுண்டு. ஒரு நாள் ஒரு வாடிக்கையாளர் வெகு அவசரமாக ஒரு தொலைக்காட்சிப் பெட்டியைக் கொண்டுவந்து “இதை உடனே செப்பனிட வேண்டும்” என்றார். அவர் ஓர் அராபியர். பொதுவாகப் பணியைத் தொடங்குவதற்கு முன்னதாக சிலர் செலவு எவ்வளவு ஆகும் என்ற மதிப்பீட்டைக் கோருவார்கள். அவர் தனக்கு அப்படியெல்லாம் ஒன்றும் வேண்டாம் என்றும் எவ்வளவு ஆனாலும் பரவாயில்லை பணி முடிந்து வரும்போது தனக்கு தொலைக்காட்சி பெட்டி வேண்டும் என்றார். எல்லாம் பேசி முடித்து ஒத்துக் கொண்டபின் அவர் போய் விட்டார். அந்த தொலைக்காட்சிப் பெட்டியில் LOT(line output transformer) என்ற சாதனம் பழுதாகி இருந்தது. அது அவர்களிடம் இல்லாதததால் வெளியிலிருந்து வாங்கிவர நேரிட்டது. சற்று விலை கூடுதலான உதிரிப் பாகமும் கூட.
உமரின் பணியகம் மதியம் 1-லிருந்து 4 மணிவரை உணவருந்துவதற்காகச் சாத்தப் பட்டிருக்கும். உமர் மதிய உணவிற்குச் சென்றுவிட்டார். சில பணியாளர்கள் பணிமனையிலேயே உணவருந்திவிட்டு சற்று ஓய்வெடுத்துக் கொள்வார்கள்.

உமர் வழக்கம்போல் மதிய இடைவேளைக்குப் பின் அலுவலகம் திரும்பினார். அலுவலக கட்டிடத்தை நெருங்கும்போது சாலையில் தொலைக்காட்சி பெட்டியொன்று நொறுங்கிய நிலையில் கிடந்தது. ஒரு சிலர் ஆங்காங்கே நின்று பார்த்துக் கொண்டிருந்தனர். சற்று உற்றுப் பார்த்தபோதுதான் ‘அவசரமாக வேண்டும்’ என்று கொடுத்துவிட்டுப் போன அதே தொலைக் காட்சிப் பெட்டி என்று தெரிந்தது. உமருக்கு ஒன்றும் புரியவில்லை. அலுவலகத்தினுள் சென்றவுடன் அந்த தொலைக் காட்சிப் பெட்டியைச் செப்பனிட்ட நபர் தலை கலைந்தவராக வியர்க்க விறுவிறுக்க நின்றிருந்தார். என்னவென்று வினவியபோது கதையைச் சொல்ல ஆரம்பித்தார்.
சுமார் இரண்டரை மணியளவில் அந்த தொலைக் காட்சிப் பெட்டியைக் கொடுத்த அந்த நபர் வந்திருக்கிறார். வெளிக் கதவு சாத்தப் பட்டிருக்கவே அதைத் திறக்கும்படிக் கூறி, தன்னுடைய தொலைக் காட்சிப் பெட்டியைப் பெற்றுச் செல்வதற்காக வந்திருப்பதாகக் கூறியிருக்கிறார். தொலைக்காட்சிப் பெட்டிய செப்பனிட்ட ஊழியர், அது செப்பனிடப் பட்டுவிட்டதாகவும் நான்கு மணிக்கு மீண்டும் பணியகம் திறக்கும்போது வந்து பெற்றுக்கொள்ளும்படியும் கூறியிருக்கிறார். தொலைக் காட்சிப் பெட்டியைக் கொடுத்த அந்த நபர் தாம் வீட்டிற்குப் போகும் வழியில் தொலைக் காட்சிப் பெட்டியைப் பெற்றுச் செல்ல வந்திருப்பதாகவும் கூறியிருக்கிறார்.

அதற்கு அந்த ஊழியர் அது ‘மதிய உணவு இடைவேளை’ என்றும் மேலும் பொறுப்பாளர் 4 மணிக்குத் திரும்புவார் என்றும் அந்த தொலைக்காட்சிப் பெட்டிக்கு எவ்வளவு செலவாகியிருக்கிறதென்ற விபரம் தனக்குத் தெரியாததால் 4 மணிக்கு வரும்படியும் கூறியிருக்கிறார். அதற்கு அந்த நபர் தான் இல்லம் போய்த் திரும்ப நேரம் பிடிக்கும் என்றும் தன்னிடம் தற்போது பணம் இல்லாததையும், வீட்டிலிருந்துதான் எடுத்துவர வேண்டும் என்றும் தொலைக் காட்சிப் பெட்டியைத் தரும்படியும் கூறியிருக்கிறார். ஊழியர் மறுக்கவே வாய்ச் சண்டை முற்றி, இறுதியில் அந்த நபர் ஊழியரின் கழுத்தைப் பிடித்திருக்கிறார். அத்தோடு நிற்காமல் அந்த தொலைக் காட்சிப் பெட்டியை வெளியே எடுத்து வந்து சாலையில் எறிந்து விட்டார்.
தொலைக் காட்சிப் பெட்டியை செப்பனிட்ட அந்த ஊழியர் பம்பாய்காரர். நேரே ‘பர்துபை’ காவல் நிலையம் சென்று அங்கிருந்த மேலதிகாரியிடம் புகார் கொடுத்திருக்கிறார். விபரங்களைக் கூறி, தன் கழுத்தில் ஏற்பட்ட நகக் காயங்களையும் காட்டியிருக்கிறார். அந்த நபரை விசாரிப்பதாக் கூறி ஊழியரை மருத்துவ மனைக்கு அனுப்பி வைத்திருக்கிறார் அந்த அதிகாரி. மருத்துவ மனையிலிருந்து அந்த ஊழியர் திரும்பி வந்திருந்தபோதுதான் உமர் அலுவலகம் திரும்பியிருக்கிறார். (பெரிய காயங்கள் ஏதுமில்லை என்று மருத்துவர் சான்றிதழ் கொடுத்திருக்கிறார்)
சுமார் ஐந்து மணியிருக்கும். ஒரு போலீஸ்காரர் அலுவலகத்தினுள் நுழைவதைக் கண்ட உமருக்கு வயிற்றில் புளி கரைக்க ஆரம்பித்துவிட்டது. அப்பொழுதுதான் அந்த வாடிக்கையாளர் போலீஸ்காரர் என்று உமருக்கு தெரிய வந்தது. ‘போலீஸ்காரர் சமாச்சாரம்தான் நமக்குத் தெரியுமே. அவர்களுடைய பொல்லாப்பு சங்லிப் பின்னல் மாதிரி போகுமே. ஏன் இந்த ஊழியர் இந்தச் வம்பை வாங்கிக் கட்டிக்கொண்டாரோ? பேசாமல் தொலைக் காட்சிப் பெட்டியை அவரிடம் தந்திருக்கலாமே’ என்று உமர் எண்ணினார்.
அவர் உமரை நெருங்கி “அஸ்ஸலாமு அலைக்கும்” என்றார். உமரும் பதிலளித்தார். உமரிடம் அந்த தொலைக் காட்சிப் பெட்டிக்கு எவ்வளவு செலவாயிற்று என்றார். 350 திர்ஹம் என்றார். பணப் பையைத் திறந்து பணத்தைத் தந்துவிட்டு, “என்னை மன்னித்துக் கொள்ளுங்கள். நான் ஏதோ ஒரு மன நிலையில் அப்படி நடந்து கொண்டேன். என் குழந்தைகள் கார்ட்டூன் பார்க்க மாலையில் டி.வி. வேண்டும் என்று அடம் பிடித்ததால் அப்படி நான் நடந்து கொள்ள வேண்டியதாயிற்று.” என்று சொல்லிவிட்டு அந்தப் பணியாளரிடம் மன்னிப்பும் கேடுக் கொண்டார். உமர், “சார் உங்கள் டி. வி.?” என்று வினவியபோது “கல்லி வல்லி (விட்டுத் தொலை)” என்று சொல்லிவிட்டு நடையைக் கட்ட ஆரம்பித்துவிட்டார்.
பின்னர் உமர் அறிய வந்த செய்திகள் உமரை மேலும் ஆச்சரியத்தில் ஆழ்த்தின. அந்த ஊழியர் மேலதிகாரியிடம் புகார் செய்த பின்னர் பணியிலிருந்து திரும்பிய அந்த போலீஸ்காரரை அந்த அதிகாரி மீண்டும் வரவழைத்து அவரைக் கடிந்துகொண்டு உடனே தொலைக் காட்சிப் பெட்டியைச் செப்பனிட ஆகும் தொகையை செலுத்திவிடுமாறு கூறியிருக்கிறார். இவைகளை கேள்வியுற்ற உமர் ஆச்சரியத்தில் உறைந்து போய்விட்டார். நம் நாட்டில் போலீஸ்காரர்களை வேறு விதமாகவே பர்த்துப் பழகிய உமருக்கு ஒரு புது அனுபவமாகவே இருந்தது.
முதலாளி விசுவாசத்தோடும், துணிச்சலோடும் நடந்துகொண்ட அந்த இந்தியரையும், மேலதிகாரிக்குக் கட்டுப் பட்டு பெருந்தன்மையோடு நடந்து கொண்ட அந்தப் போலீஸ்காரரையும் நாம் மனமாரப் பாராட்டத்தான் வேண்டும். மனிதம் மாய்ந்துவிடவில்லை!.
தொடரும்….

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε வா.. வரையும் சரித்திரச் சித்திரம் – பகுதி – 4 ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Κουσαρί, η συνταγή με την αραβική νοστιμιά

Συνταγη για Κουσαρί, η συνταγή με την αραβική νοστιμιά

Μια συνταγή που ξεχωρίζει. Νόστιμο κουσαρί, ένα  φαγητό της αραβικής κουζίνας που είναι δημοφιλές στην Αίγυπτο. Ένα πιάτο που συνδυάζει διαφορετικές γεύσεις. Πάνω από όλα θρεπτικό. Δοκιμάστε το!

Υλικά συνταγής

  • 1 κούπα φακές, μεγάλη
  • 9 κούπες νερό
  • 4 κ.σ. αλάτι, μικρές
  • 1 μεγάλη κούπα μακαρονάκι, κοφτό
  • 2 κ.σ. ελαιόλαδο
  • 1 κούπα ρύζι, μεγάλη
  • 2 κρεμμύδια, μεγάλα
  • 1 σκ. σκόρδο
  • 1 κούπα ντομάτα αποφλοιωμένη, αλεσμένη

Εκτέλεση συνταγής

Αρχικά, γεμίζουμε μία μεγάλη κούπα με φακές.

Την αδειάζουμε σε ένα σουρωτήρι, ή σε ένα κόσκινο.

Πλένουμε καλά τις φακές.

Γεμίζουμε μία κατσαρόλα με τρεις κούπες νερό, προσθέτουμε μία μικρή κουταλιά αλάτι, ρίχνουμε τις φακές και όταν πάρει το νερό βράση, χαμηλώνουμε αρκετά το μάτι και αφήνουμε τις φακές να σιγοβράσουν για καμιά ωρίτσα (οι φακές μας πρέπει να γίνουν μαλακές, αλλά πρέπει να έχουμε το νου μας και να δοκιμάζουμε που και που για να μη λιώσουν).

Σουρώνουμε καλά τις φακές μας, τις αδειάζουμε σε ένα μπολ και τις αφήνουμε στην άκρη.

Στην συνέχεια, καθαρίζουμε την κατσαρόλα καλά και ρίχνουμε τέσσερις κούπες νερό.

Όταν βράσει το νερό, ρίχνουμε δύο κουταλιές αλάτι και μία μεγάλη κούπα, την ίδια που χρησιμοποιήσαμε και στις φακές, κοφτό μακαρονάκι.

Επειδή με το μακαρονάκι και το αλάτι σπάει η βράση, μέχρι να πάρει ξανά βράση το νερό, ανακατεύουμε σταθερά το μακαρόνι για να μην κολλήσει.

Βράζουμε το μακαρονάκι για δέκα-πέντε λεπτά.

Όταν βράσει το μακαρονάκι, το στραγγίζουμε, το βρέχουμε με κρύο νεράκι και το αφήνουμε και αυτό στην άκρη.

Έπειτα, καθαρίζουμε ξανά την κατσαρόλα και τη στεγνώνουμε.

Ρίχνουμε στον πάτο της, δύο μεγάλες κουταλιές ελαιόλαδο και το ζεσταίνουμε σε μεσαία θερμοκρασία.

Αδειάζουμε μέσα μία μεγάλη κούπα ρύζι και το τηγανίζουμε για όχι παραπάνω από τρία λεπτά.

Αδειάζουμε δύο κούπες νερό, μία μικρή κουταλιά αλάτι και βράζουμε το ρύζι, ανακατεύοντάς το στην αρχή για να μη μας κολλήσει.

Χαμηλώνουμε το μάτι της κουζίνας σε χαμηλή θερμοκρασία, σκεπάζουμε την κατσαρόλα και αφήνουμε το ρύζι να σιγοβράσει για δέκα-πέντε λεπτά.

Μετά, ξεσκεπάζουμε την κατσαρόλα και την κατεβάζουμε από το μάτι, για να γίνει το ρύζι μας σπυρωτό.

Παίρνουμε δύο μεγάλα κρεμμύδια και τα κόβουμε στη μέση.

Ψιλοκόβουμε τα μισά κρεμμύδια σε πολύ λεπτές μισές ροδέλες.

Πλένουμε καλά τα κρεμμύδια κάτω από τη βρύση, μέσα σε ένα μικρό τρυπητό για να φύγει το «πύρωμα» στη γεύση τους και τα στραγγίζουμε.

Κόβουμε επίσης, πολύ ψιλά μία σκελίδα σκόρδου.

Σε ένα τηγάνι ζεσταίνουμε ελαιόλαδο.

Σε μεσαία θερμοκρασία, τσιγαρίζουμε το κρεμμύδι, μαζί με το σκόρδο, μέχρι το κρεμμύδι να μαλακώσει, να πάρει ένα ξανθό χρώμα και να βγάλει το άρωμα του.

Στην κατσαρόλα με το ρύζι, ρίχνουμε το κοφτό μακαρονάκι, τις φακές και με ένα πιρούνι τα ανακατεύουμε όλα μαζί καλά και ομοιόμορφα.

Αδειάζουμε τα κρεμμύδια, μαζί με μία κούπα αποφλοιωμένης αλεσμένης ντομάτας.

Ανακατεύουμε καλά να πάνε παντού κρεμμύδια και ντομάτα.

Τέλος, ψήνουμε το κουσαρί μας σε χαμηλή θερμοκρασία στο μάτι για ένα δεκάλεπτο.

Καλή επιτυχία και καλή όρεξη!

Συμβουλές

  • Αν δεν έχουμε χρόνο, να πλένουμε συνέχεια και να στεγνώνουμε κατσαρόλες, στα τρία μάτια της κουζίνας και σε τρεις χωριστές κατσαρόλες, βράζουμε ταυτόχρονα φακές, κοφτό μακαρονάκι και ρύζι.
  • Αν θέλουμε το φαγητό μας πιο πικάντικο, βάζουμε 2 σκελίδες σκόρδου.
  • Εναλλακτικά, χρησιμοποιούμε έτοιμο μείγμα πουμαρό αντί για αποφλοιωμένη ντομάτα.
  • Μπορούμε να προσθέσουμε στο πιάτο ρεβίθια και φακές.

Άλλες συνταγές

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Κουσαρί, η συνταγή με την αραβική νοστιμιά ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Μακαρόνια του μπαξέ, σκέτη απόλαυση!

Συνταγη για Μακαρόνια του μπαξέ, σκέτη απόλαυση!

Τα μακαρόνια, είναι σίγουρα ένα φαγητό που δεν παραλείπεται από το εβδομαδιαίο μας πρόγραμμα. Αν σας αρέσουν πολύ, δοκιμάστε να φτιάξετε αυτή την συνταγή. Μακαρόνια του μπαξέ, σκέτη απόλαυση! Με κάθε λογής λαχανικά, θρεπτικά για τον οργανισμό. Το καλύτερο γεύμα.

Υλικά συνταγής

  • 400 γρ. μακαρόνια (Νούμερο 5, με τρύπα)
  • 100 γρ. αρακά
  • 100 γρ. καλαμπόκι
  • Λίγα φασολάκια
  • 100 γρ. μανιτάρια
  • 4 ντομάτες, ώριμες
  • 4-5 ντομάτες, λιαστές  
  • 2 πιπεριές Φλωρίνης
  • 1 πράσο
  • 2 κ.σ. κάπαρη
  • Δυόσμο
  • Μαϊντανό
  • Βασιλικό
  • 3 κ.σ. ελαιόλαδο
  • 1 ποτ. κρασί  
  • 2 αυγά
  • 100 γρ. τυρί, τριμμένο   
  • Λίγο σουσάμι
  • Αλάτι

Εκτέλεση συνταγής

Αρχικά, βράζουμε τα μακαρόνια σε αλατισμένο νερό για 7 λεπτά.

Τα σουρώνουμε και κρατάμε λίγο από το χυλό.

Σε μια κατσαρόλα, βάζουμε 3 κουταλιές της σούπας ελαιόλαδο, ρίχνουμε το πράσο, τις πιπεριές, τα μανιτάρια και αφού σοταριστούν ελαφρά προσθέτουμε και τα υπόλοιπα λαχανικά, τον δυόσμο, τον βασιλικό, τον μαϊντανό, όλα ψιλοκομμένα και σβήνουμε με το κρασί.  

Στην συνέχεια, ρίχνουμε ένα φλιτζάνι από τον χυλό που κρατήσαμε και αφήνουμε την σάλτσα να ρουφήξει τα ζουμιά της.

Στο τέλος, προσθέτουμε την λιαστή ντομάτα ψιλοκομμένη και την κάπαρη.

Ανακατεύουμε τη σάλτσα με τα μακαρόνια και τα βάζουμε στη γάστρα.

Έπειτα, ρίχνουμε τυρί τριμμένο και τα αυγά, αφού πρώτα τα έχουμε χτυπήσει.

Ανακατεύουμε καλά και στρώνουμε την επιφάνεια του φαγητού μας.

Ραντίζουμε με το σουσάμι και καλύπτουμε όλη την επιφάνεια του με ντομάτες κομμένες σε ροδέλες.

Τέλος, σκεπάζουμε την γάστρα και ψήνουμε σε προθερμασμένο φούρνο στους 200 βαθμούς για 45 λεπτά.   

Καλή όρεξη!

Συμβουλές

  • Κρατάμε σταθερή και δυνατή τη θερμοκρασία του νερού που βράζουμε τα μακαρόνια.

Δείτε και αυτές τις συνταγές

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Μακαρόνια του μπαξέ, σκέτη απόλαυση! ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Πένες με γαρίδες και κουρκουμά, μοναδική γεύση!

Συνταγη για Πένες με γαρίδες και κουρκουμά, μοναδική γεύση!

Μία εναλλακτική συνταγή για μακαρονάδα. Πένες με γαρίδες και παραδοσιακό κουρκουμά για συνοδεία. Oι αναλογίες μπορούν να προσαρμοστούν ανάλογα με το πόσα στόματα έχετε να ταΐσετε. Δοκιμάστε τες και δεν θα χάσετε.

Υλικά συνταγής  

  • Μισό πακέτο γαρίδες
  • Μισό πακέτο μακαρόνια πένες
  • 1 πρέζα αλάτι, χοντρό
  • 1 πρέζα πιπέρι, χοντρό
  • Κουρκουμά
  • Λίγο ούζο
  • Λίγο ελαιόλαδο

Εκτέλεση συνταγής

Αρχικά, βάζουμε νερό να βράσει σε μια κατσαρόλα.

Παράλληλα, τσιγαρίζουμε τις γαρίδες σε αντικολλητικό τηγάνι με ελάχιστο ελαιόλαδο και ψιλοκομμένο (στο χέρι) σκορδάκι.

Στη συνέχεια, τις σβήνουμε με ουζάκι.

Μέχρι να εξατμιστεί το ουζάκι, εμείς ρίχνουμε τις πένες στο νερό που κοχλάζει στην κατσαρόλα.

Παίρνουμε περίπου ένα ποτηράκι από το νερό βρασμού των ζυμαρικών και το προσθέτουμε στις γαρίδες που «σιγοτσουρουφλίζονται» στο τηγάνι…

Προσθέτουμε μία πρέζα χοντρό αλάτι, πιπέρι και τον κουρκουμά και αφήνουμε το τηγάνι στην φωτιά μέχρι να ομογενοποιηθεί το νεράκι των γαρίδων, σε μια ελαφριά λευκή σαλτσούλα.

Αφού βράσουν για 8 με 9 λεπτά, σουρώνουμε παράλληλα τις πένες και τις επανατοποθετούμε στην κατσαρόλα τους.

Τέλος, μόλις γίνουν και οι γαριδούλες, τις προσθέτουμε και αυτές στην κατσαρόλα και ανακατεύουμε.

Οι πένες με γαρίδες και κουρκουμά είναι έτοιμες να τις απολαύσουμε!

Καλή όρεξη!

Συμβουλές

  • Εάν θέλουμε, μπορούμε να πασπαλίσουμε την μακαρονάδα μας με λίγο βασιλικό ή μαϊντανό.

Δείτε και αυτές τις συνταγές

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Πένες με γαρίδες και κουρκουμά, μοναδική γεύση! ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Σουλούδικο σμυρνέϊκο, το καλύτερο κοκκινιστό κριθαράκι

Συνταγη για Σουλούδικο σμυρνέϊκο, το καλύτερο κοκκινιστό κριθαράκι

Σουλούδικο Σμυρνεϊκο ή αλλιώς κριθαράκι κοκκινιστό, είναι ένα εύκολο και νόστιμο φαγητό που μας βγάζει από την μεγάλη πρόκληση του “τι θα μαγειρέψω σήμερα;”. Ένα τόσο λατρεμένο πιάτο, που θα το λατρέψουν ακόμα και τα παιδιά σας. Σας το προτείνω ανεπιφύλακτα, εάν αναζητάτε κάτι κλασσικό και ταυτόχρονα γευστικό!

Yλικά Συνταγής

  • Μισό πακέτο ζυμαρικά τύπου κριθαράκι
  • 3 φρέσκιες ντομάτες
  • 4 φλιτζάνια νερό
  • αλάτι
  • πιπέρι

Εκτέλεση Συνταγής

Αρχικά τρίβουμε στον τρίφτη τις ντομάτες.

Σε μια κατσαρόλα βάζουμε το λάδι να κάψει και ρίχνουμε την ντομάτα.

Αλατοπιπερώνουμε και προσθέτουμε το νερό και το αφήνουμε να πάρει μια βράση.

Ρίχνουμε το κριθαράκι και χαμηλώνουμε τη φωτιά να σιγοβράσει για περίπου 10 λεπτάκια. Ανακατεύουμε τακτικά για να μην μας κολλήσει!

Μόλις ψηθεί, σβήνουμε την φωτιά και το αφήνουμε να τραβήξει.

Σερβίρουμε στα πιάτα μας, τρίβουμε λίγο πιπεράκι από πάνω και απολαμβάνουμε.

Καλή μας όρεξη!

 

Συμβουλές για το τέλειο κριθαράκι

  • Προσοχή! Το κριθαράκι μας δεν πρέπει να βγει πηχτό.
  • Εάν θέλουμε μπορούμε να τρίψουμε λίγη μυτζήθρα ή και φετούλα πάνω από το κριθαράκι για ένα ακόμα πιο νόστιμο αποτέλεσμα.

 

Άλλες εύκολες συνταγές:

 

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Σουλούδικο σμυρνέϊκο, το καλύτερο κοκκινιστό κριθαράκι ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Το πιο νόστιμο γιουβετσάκι με κοτόπουλο που έχετε φάει!

Συνταγη για Το πιο νόστιμο γιουβετσάκι με κοτόπουλο που έχετε φάει!

Μια απολαυστική συνταγή για ένα φαγητό που θα κλέψει τις εντυπώσεις. Το πιο νόστιμο γιουβετσάκι με κοτόπουλο που έχετε φάει ποτέ! Ένα τέλειο κυριακάτικο φαγητό για την οικογένεια σας. Δοκιμάστε το!

Υλικά συνταγής

  • Μισή κούπα βούτυρο
  • 1 κότα
  • 20 κόκκους πιπέρι,  μαύρο
  • 2-3 σελινόριζες
  • 1 κρεμμύδι
  • 1 καρότο
  • 1 φύλλο δάφνης
  • 400 γρ. χυλοπίτες
  • παρμεζάνα

Για τη σάλτσα

  • 4 κ.σ. αλεύρι
  • 4 κ.σ. βούτυρο
  • 1 κρέμα γάλακτος
  • 4 κροκάδια, χτυπημένα

Εκτέλεση συνταγής

Αρχικά, βάζουμε σε μια κατσαρόλα 1 λίτρο νερό και ρίχνουμε το κοτόπουλο, τις σελινόριζες, το κρεμμύδι, το καρότο, το φύλλο δάφνης και τους κόκκους του πιπεριού και τα αφήνουμε να βράσουν.

Αφού βράσουν, βάζουμε σ’ ένα κατσαρολάκι το ζωμό του κοτόπουλου και προσθέτουμε το αλεύρι και το βούτυρο.

Τα αφήνουμε να βράσουν και στη συνέχεια προσθέτουμε την κρέμα γάλακτος, τα χτυπημένα κροκάδια και ανακατεύουμε.

Βράζουμε τις χυλοπίτες για 8 λεπτά.

Βάζουμε σ’ ένα γιουβέτσι τις χυλοπίτες και το κοτόπουλο σε στρώσεις και ρίχνουμε 1 κούπα παρμεζάνα, πιπέρι και αλάτι σε κάθε στρώση.

Περιχύνουμε από πάνω με 4 κουταλιές λιωμένο βούτυρο, ρίχνουμε τη σάλτσα που ήδη έχουμε ετοιμάσει και βάζουμε λίγη παρμεζάνα.

Τέλος, ψήνουμε στους 180 βαθμούς Κελσίου για 3/4 της ώρας περίπου, μέχρι να ροδίσει.

Καλή όρεξη!

Συμβουλές

  • Αντί για παρμεζάνα, μπορούμε να χρησιμοποιήσουμε κεφαλοτύρι.
  • Εναλλακτικά, χρησιμοποιούμε γάλα εβαπορέ αντί για κρέμα γάλακτος.

Σχετικές συνταγές

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Το πιο νόστιμο γιουβετσάκι με κοτόπουλο που έχετε φάει! ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Γρήγορο ριζότο με ξηρούς καρπούς

Συνταγη για Γρήγορο ριζότο με ξηρούς καρπούς

Μια εύκολη συνταγή που θα σας αρέσει πολύ. Γρήγορο ριζότο με ξηρούς καρπούς. Μοναδική, σπιτική γεύση. Το κατάλληλο συνοδευτικό για οποιοδήποτε κυρίως πιάτο έχετε στο τραπέζι σας. Δοκιμάστε το!

Υλικά συνταγής

  • 3 κ.σ. ελαιόλαδο
  • 60 γρ. περίπου κρεμμύδι
  • 2 σκ. σκόρδο
  • 1 μισή κούπα περίπου ρύζι
  • 3 μισή κούπες ζωμό κότας, ζεστό
  • 70 γρ. σταφίδα
  • 3 κ.σ. χυμό λεμονιού
  • 40 γρ. περίπου κουκουνάρι
  • 40 γρ. περίπου παρμεζάνα
  • Αλάτι
  • Πιπέρι

Εκτέλεση συνταγής

Αρχικά, βάζουμε το ελαιόλαδο να ζεσταθεί και σοτάρουμε το κρεμμύδι και το σκόρδο, ώσπου να γίνουν διάφανα.

Προσθέτουμε το ρύζι και το ανακατεύουμε επάνω στη φωτιά, ώσπου να λαδωθούν οι κόκκοι.

Στην συνέχεια, σκεπάζουμε και σιγοβράζουμε για 2-3 λεπτά, ώσπου το ρύζι να γίνει διάφανο.

Ρίχνουμε το ζωμό, τις σταφίδες και το χυμό λεμονιού και σιγοβράζουμε 20 λεπτά περίπου ή ώσπου να φουσκώσει το ρύζι και να πιεί όλο το ζωμό.

Έπειτα, κατεβάζουμε από τη φωτιά κι ανακατεύουμε μέσα στο ρύζι την παρμεζάνα, τα κουκουνάρια, αλάτι, και φρεσκοτριμμένο πιπέρι.

Τέλος, αφήνουμε το ριζότο μας να σταθεί για 10 λεπτά και το σερβίρουμε.

Καλή όρεξη!

Συμβουλές

  • Μπορούμε να πασπαλίσουμε το ριζότο μας με ψιλοκομμένο μαϊντανό.
  • Βάζουμε στο ριζότο μας όποιο είδος σταφίδας θέλουμε (ξανθή, μαύρη κλπ.)

Δείτε και αυτές τις συνταγές για ριζότο

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Γρήγορο ριζότο με ξηρούς καρπούς ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Νόστιμη σαλάτα με ζυμαρικά, τόνο και αρακά

Συνταγη για Νόστιμη σαλάτα με ζυμαρικά, τόνο και αρακά

Παραδοσιακή ελληνική συνταγή είναι ο τραχανάς, ιδανικός για τον χειμώνα και το κρύο. Εδώ χρησιμοποιούμε έτοιμο ξυνό τραχανά από το σούπερ μάρκετ, αν και να ξέρετε ότι μπορείτε να φτιάξετε και τραχανά……Διαβάστε τη συνταγή

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Νόστιμη σαλάτα με ζυμαρικά, τόνο και αρακά ? Καλή όρεξη

Συνταγή για Μακαρόνια με σπέσιαλ σάλτσα ντομάτας, σούπερ νοστιμιά!

Συνταγη για Μακαρόνια με σπέσιαλ σάλτσα ντομάτας, σούπερ νοστιμιά!

Μια συνταγή για ζυμαρικά όπου θα σας εντυπωσιάσει η σάλτσα. Μακαρόνια με «πειραγμένη» σάλτσα ντομάτας. Ένα φαγητό που μπορείτε να το απολαύσετε με την οικογένεια και τους φίλους σας. Εύκολο και γρήγορο και το φτιάχνετε με ό,τι ζυμαρικά προτιμάτε. Δοκιμάστε το, αυτή η σάλτσα είναι η απόλυτη νοστιμιά!

Υλικά συνταγής

  • Μισό κιλό μακαρόνια, σπαγγέτι ή ότι άλλο θέλετε
  • 400 γρ. ντοματάκια κονσέρβας
  • 3 κ.σ. ταχίνι
  • 2 κ.σ. κέτσαπ
  • 1 κ.σ. πελτέ
  • 60 γρ. περίπου σουσάμι
  • Μισή κούπα καρύδια
  • 15 ελιές μαύρες, ψιλοκομμένες
  • 1 φύλλο δάφνης
  • 8 κόκκους μπαχάρι
  • 1 κρεμμύδι, μέτριο
  • 25 γρ. περίπου δυόσμο
  • 15 γρ. περίπου κανέλα
  • Αλάτι
  • Πιπέρι

Εκτέλεση συνταγής

Αρχικά βάζουμε σε μια κατσαρόλα το ταχίνι και το κρεμμύδι και τα σοτάρουμε.

Προσθέτουμε λίγο νερό.

Στην συνέχεια, ρίχνουμε τα ντοματάκια, τον πελτέ και την κέτσαπ.

Προσθέτουμε τη δάφνη, το μπαχάρι, την κανέλα και το δυόσμο.

Έπειτα, ρίχνουμε πάλι λίγο νερό και ανακατεύουμε.

Αφήνουμε τη σάλτσα να βράσει.

Ετοιμάζουμε τη μακαρονάδα.

Σοτάρουμε το σουσάμι, κόβουμε τις ελίτσες και τέλος σερβίρουμε τη μακαρονάδα με τη σάλτσα, αφού έχουμε πασπαλίσει από πάνω με τα καρύδια, τις ελίτσες και το σουσάμι.

Η μακαρονάδα μας με σάλτσα ντομάτας είναι έτοιμη.

Καλή όρεξη!

Συμβουλές

  • Για έξτρα γεύση, μπορούμε να πασπαλίσουμε την μακαρονάδα μας με τριμμένο τυρί (παρμεζάνα, κεφαλοτύρι).
  • Εναλλακτικά, αντί για δυόσμο, μπορούμε να χρησιμοποιήσουμε και βασιλικό.
  • Μπορούμε επίσης να προσθέσουμε και κάπαρη για να νοστιμίσουμε λίγο παραπάνω την μακαρονάδα μας.

Σχετικές συνταγές

Source link

Είδατε πόσο εύκολο είναι να φτιάξετε Μακαρόνια με σπέσιαλ σάλτσα ντομάτας, σούπερ νοστιμιά! ? Καλή όρεξη